ताज़ा खबर

त्रिपुरा

मैप पर क्लिक कर जानें अपने राज्य की डिटेल्स

अपना निर्वाचन क्षेत्र चुने

तीखे बयान

  • जनसंख्या: 2388819
  • पुरुष: 1171244
  • महिला: 1217575
  • लोकसभा सीटें: 2
  • राजधानी: अगरतला
  • चरण-1 (मतदान दर) : 81.80
  • चरण-3 (मतदान दर) : 82.40

वर्तमान राजनीतिक स्थिति

त्रिपुरा में 60 विधानसभा की सीटें हैं। 36 पर भाजपा का कब्जा है और 8 पर Indigenous People's Front of Tripura का। 16 के साथ मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी विपक्ष में है। राज्य में 2 लोकसभा की सीटें हैं। त्रिपुरा पश्चिम और त्रिपुरा पूरब। दोनों सीटों पर मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी का कब्जा है। त्रिपुरा की एक राज्यसभा पर सीट पर भी मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी का ही कब्जा है। राज्य में भाजपा लगातार अपने जनाधार को बढ़ाने में लगी हुई है।

सामाजिक समीकरण

पूर्वोत्तर की बात करें तो त्रिपुरा एक ऐसा राज्य है जहां की साक्षरता सबसे ज्यादा है। आंकड़ों की मानें तो यहां साक्षरता दर 94.65 प्रतिशत है, जो भारत में भी सबसे अधिक है। सांस्कृतिक तौर पर देखें तो त्रिपुरा में बंगाली संस्कृति का बहुत ज्यादा प्रभाव नजर आता है। इस राज्य में जनजातियों की आबादी कम ही है। त्रिपुरा हिन्दू बहुल राज्य है जहां हिंदुओं का आबादी 83.40% है। इस्लाम को मानने वाले लोग यहां लगभग 9 फीसदी है। त्रिपुरा में ईसाई और बौद्ध धर्म को मानने वाले लगभग 4 फीसदी हैं।

' class='divstatedetail'>

भारत के उत्तर-पूर्वी सीमा पर स्थित त्रिपुरा देश का तीसरा सबसे छोटा राज्य है। अगरतला त्रिपुरा की राजधानी है। त्रिपुरा का क्षेत्रफल 10,492 किमी है जबकि आबादी 36,73,917 है। प्रशासनिक उद्देश्य से राज्य को 8 जिलों, 23 उपखंडों और 58 विकास खंडों में विभाजित किया गया है। ये जिले हैं धलाई, उत्तर त्रिपुरी, दक्षिणी त्रिपुरी, पश्चिमी त्रिपुरा, खोवाई, सिपाह जाला, गोमती और उनाकोटी। त्रिपुरा के लोगों का मुख्य पेशा खेती है। इसके अलावा पर्यटन की दृष्टि से भी त्रिपुरा काफी मशहूर है क्योंकि राज्य के अधिकतर क्षेत्र में जंगल है जो पर्यटकों को बहुत लुभाते हैं।

इतिहास

ऐसा कहा जाता है कि त्रिपुरा की स्थापना माणिक्य नाम की इंडो मंगोलियन की रहने वाली आदिवासियों के मुखिया ने 14वीं शताब्दी में की थी। इसके अलावा महाभारत, पुराण तथा अशोक के शिलालेखों में त्रिपुरा का उल्लेख मिलता है। त्रिपुरा को मुगलों के बार-बार के आक्रमण का भी सामना करना पड़ा था। 19वीं शताब्‍दी में महाराजा वीरचंद्र किशोर माणिक्‍य बहादुर ने त्रिपुरा में नए युग की शुरूआत की और प्रशासनि....

त्रिपुरा ताज़ा आलेख